Skip to main content

एक्स गर्लफ्रेंड से शादी

एक्स गर्लफ्रेंड से शादी 


मीणा और राम का किसी बात पर ग़लत फैमि हो जाती है  और  झगड़ा हो जाता है और वो दोनों शादी के अपने-अपने माता पिता से कहते है , शादी के लिए तैयार है किसी से भी करा दो , मीणा की माँ कहती है की लड़के की फोटो भी देख लो मीणा बोलती है।  बोल तो ऐसे रही हो की सरुख खान है लड़का 

मुझे नहीं देखनी है फ़ोटो किसी से भी करा दो उधर राम का भी यही हाल  था उसने भी अपनी माँ से कह दिया जिससे भी करानी है करा दो और दोनों की शादी फिक्स जाती है , शादी के दिन मीणा अपने पति को देख नहीं पाती है क्युकी उसके फेस पे मास्क लगा हुआ था। 

घर पहुंचने के बाद दोनों एक दूसरे को देखते है ,तो चौंक जाते हैं। क्युकी मीणा की शादी किसी और से नहीं बल्कि उसके की बॉयफ्रेंड राम से हो जाती है। ये देख कर राम बोलता है तुम्हारी माँ को मैं ही मिला था। मीणा बोलती है कहाँ फस गयी यार। आप ये hindi kahaniya nationalhndi.in पर पढ़ रहे है। 

और इतना कहकर वो रसोई में चली जाती है ,और खाना बनाने लगती है उनके बिच हर दिन झगड़ा होता रहता था। एक दिन राम ने आचार के बॉटल का ढक्कन जान बूझकर टाइट कर दिया और खाना- खाने वक़्त जान बुझ कर मीणा से आचार माँगा ,


मीणा ने आचार का ढक्कन खोलने की कोसिस की लेकिन वो नहीं खुला अंत में उसने राम से कहाँ की इसे तुम ही खोलों ,राम बोलता है देखा मेरी मदद लेनी पारी न ,अगले दिन मीणा ने जान बुझ कर राम के खाने में अधिक मीर्च रख दिया। 

राम के कान से धुआँ निकले लगा ये देख कर मीणा हसने लगी और राम को गुस्सा आया और फिर से दोनों में झगड़ा होने लगा दोनों के रोज-रोज के झगड़े सुरु-सुरु में राम की माँ को अच्छा लगता था लेकिन अब राम की माँ को चिंता होने लगी थी। 

एक दीन राम ने अपनी माँ से कहाँ कैसी बहु लायी हो तम हमेसा झगड़ा करती रहती है ,ये सुकर राम की माँ कहती है शादी से पहले तो ये अच्छी थी इसे इश्क लड़ा रहे थे अब ये ख़राब हो गयी ,ये सुकर राम बिलकुल सांत हो जाता हैं। 


उसकी माँ उसे समझती है सब भूल कर एक नयी शुरुआत करो ,अपनी माँ की बाते सुनने के बाद वो मीणा के पास जाता है और ग़लत फमी दूर करने की कोसिस  करता है और गलत फमी दूर हो जाती है। और दोनों को अफ़सोस होता है ,

फिर राम मीणा को परपोज़ करता है ,मीणा उसे एक्सेप्ट कर लेती है और कहती है अच्छा हुआ की हमारी शादी एक दूसरे से हुई हमलोग भी न बच्चो वाली बात पर झगड़ा कर बैठे , 


agar ye hindi kahani apko acchi lagi ho to comment karke hame zarur bataye aur hamare website ko subscribe kre taki aise hi majedaar hindi mai story ke liye


tags: indian kahaniya hindi romantic kahani in hindi 

Comments

Popular posts from this blog

3 भाइयो की hindi kahani

एक व्यक्ति के 3 बेटे थे ,तीनो में बहुत अंतर था ,3 नो अलग-अलग स्वभाव के थे बड़ा बेटा  बहोत मुर्ख और बतमीज़ था ,मझला थोड़ा समझदार था ,और सबसे छोटा बेटा  अति बुद्धिमान और संस्कारी था ,वो हमेसा अपने से बरो का आदर सत्कार करता है ,उस व्यक्ति को अपने सबसे बड़े बेटे की बहोत चिंता रहती थी ,किसी काम की वजह से उन्हें दूसरे गांव जाना था ,और वो गांव काफी दूर था ,इसी लिया उन्होंने अपने साथ खाना और कपड़ा ले लिया और यात्रा के लिए निकल परे, यात्रा के कुल 3 दिन होगये थे लेकिन वो अपनी मंजिल तक  नहीं पहुँच पाए थे ,वो लोग रास्ता भटक गए और खो गए उन्हें रास्ता याद नहीं आ रहा था ,उनके खाने का सामान खत्म हो गया था वो 2 दिनों से भूखे थे ,वो सभी एक पेड़ के निचे बैठ गये ,थोड़ी देर बाद उन्होंने एक घोड़े की आवाज़ सुनी  और देखा की वो एक व्यापारी था ये भी पढ़े  और उसके पास  बहोत साड़ा खाने का सामान एक गांव से दूसरे गांव वो बेचने जा रहा है था उस व्यक्ति ने अपने सबसे बड़े बेटे से बोला  की जाओ और उस व्यापारी से कुछ खाने को मांगो बड़ा बेटा  वहा जाता  और व्यापारी से बोलता है , बड़ा बेटा : अरे ओ व्यापारी तू इतना माल ले जा

लूडो वाली बहुँ की हिंदी कहानियां

लूडो वाली बहुँ  Hindi kahaniya  लूडो वाली बहुँ : विदाई के वक़्त मंजू की मम्मी मंजू से कहती है देख रे मंजू दूसरे शहर के लोग है इन्हे तेरी मोबाइल के एडिक्शन नहीं पता और रिस्ता हो गया वहाँ कोई नाटक मत करना नहीं तो मुझसे बुरा कोई नहीं होगा। मंजू अपने ससुराल पहुंच जाती हैं।  जहाँ उसे उसकी सास कहती है ,अब सास को आराम देकर  तुहि मेरे बेटे और इस घर का ख्याल  रखेगी अभी तो कोई काम है नहीं इसी लिए कल से सारि ज़िमेदारी सम्भाल लेना बेटा ,मंजू अपने कमरे में आराम करती है और अगली सुबह ससुराल में सारा काम संभाल लेती है  लेकिन काम करते हुए गुस्से में बर-बाराती भी रहती है (सारा घर सम्भाल लेना बहु लेकर आई है या नौकरानी एक तो घर न जाने कौन से कोने में है जहाँ इंटरनेट का एक सिग्नल तक नहीं आता और बात तो ऐसे करती है जैसे न जने कौन से ख़जाने की मालकिन हो )  सास: पहले ही दिन क्या हो गया बहु जो घर में कैलिसि फैला रही हो  बहुँ: अभी तक कुछ किया नहीं मम्मी जी बस अपनी किस्मत पर रो रही हूँ। मायके में पूरा समय wifi से लूडो खेलती थी यहाँ तो नोटिफिकेशन देखने लायक़ इंटरनेट नहीं चलता। लूडो क्या  घंटा

4 story in hindi language with morals

ईमानदारी का इनाम  1.  एक गाँव में एक पेंटर रहता था ,वो बहोत ईमानदार था और कभी किसी से बेमानी नहीं करता था। वो दिन रात मेहनत करता था ,फिर भी उसे 2 वक़्त की रोटी ही मिल पाती थी ,वो हमेसा सोचता की कभी उसे कोई बड़ा काम मिले और वो अच्छे से पैसे कमा सके , एक दिन उसके पेंट की अदाकारी के बारे में जमींदार साहब को पता चला जमींदार साहब ने उसे बुलाया और कहाँ तुम्हें मेरी नाव पेंट करनी है , पेंटर: जी ठीक है हो जाएगा  ज़मीनदार: अच्छा ये तो बताओ कितना लोगो , पेंटर: साहब ऐसे तो नाव पेंट के 1500 होते है। आपको जो मन हो वो देदे, ज़मीनदार: ठीक है चलो नाव देख लो  पेंटर: चलिए  पेंटर नाव देख लेता है ,और बोलता है जमींदार साहब मैं अभी पेंट लेके आता हूँ , पेंटर पेंट लेके आता है ,और पेंट करना सुरु कर देता है। जब वो पेंट करते-करते नाव के बिच में आता है तो देखता है ,की उसमे एक सुराख़  है ,वो उस को भर देता है और पेंट पूरा होने के बाद जमींदार को बुला कर ले आता है ,जमींदार उसके काम से बहोत खुश होता है , और बोलता है कल अपने 1500 ले लेना ,वो उस सुराख़ के विषय में जमींदार को नहीं बताता है और वो वहाँ से चला