Skip to main content

लूडो वाली बहुँ की हिंदी कहानियां

लूडो वाली बहुँ 

Hindi kahaniya 



लूडो वाली बहुँ: विदाई के वक़्त मंजू की मम्मी मंजू से कहती है देख रे मंजू दूसरे शहर के लोग है इन्हे तेरी मोबाइल के एडिक्शन नहीं पता और रिस्ता हो गया वहाँ कोई नाटक मत करना नहीं तो मुझसे बुरा कोई नहीं होगा। मंजू अपने ससुराल पहुंच जाती हैं।

 जहाँ उसे उसकी सास कहती है ,अब सास को आराम देकर  तुहि मेरे बेटे और इस घर का ख्याल  रखेगी अभी तो कोई काम है नहीं इसी लिए कल से सारि ज़िमेदारी सम्भाल लेना बेटा ,मंजू अपने कमरे में आराम करती है और अगली सुबह ससुराल में सारा काम संभाल लेती है

 लेकिन काम करते हुए गुस्से में बर-बाराती भी रहती है (सारा घर सम्भाल लेना बहु लेकर आई है या नौकरानी एक तो घर न जाने कौन से कोने में है जहाँ इंटरनेट का एक सिग्नल तक नहीं आता और बात तो ऐसे करती है जैसे न जने कौन से ख़जाने की मालकिन हो )

 सास: पहले ही दिन क्या हो गया बहु जो घर में कैलिसि फैला रही हो
 बहुँ: अभी तक कुछ किया नहीं मम्मी जी बस अपनी किस्मत पर रो रही हूँ। मायके में पूरा समय wifi से लूडो खेलती थी यहाँ तो नोटिफिकेशन देखने लायक़ इंटरनेट नहीं चलता। लूडो क्या  घंटा चलेगा

 सास: हाय रे मेरे राम इतनी सी बात के लिए गोल गप्पा फुला है ,अरे ओ बिट्टू ज़रा ये बहुँ के लिए घर में wifi लगवा दियो

 बिट्टू: ज़रा सा फ़ोन चलाने के लिए wifi की क्या ज़रूरत छत पर मोबाइल का कनेक्शन अच्छा आता है वही जाकर चला लिया करो

 बहुँ: सुनो जी ! मैं पूरा दिन कोना पकड़ के नहीं बैठ सकती मुझे लूडो खेलने के लिए wifi की ज़रूरत है इसी लिए साम तक लग जाना चाहिए नहीं तो जितने दिन मेरा गेम छूटेगा न उतने दिन आप भी खाना पानी भूल जाना।

 ये बोलकर मंजू वहाँ से चली जाती है बिट्टू उसे हैरानी से देखता रह जाता है। जिस पर वो उसी दिन शाम को wifi लगवा देता है और बोलता है ये लो महारानी आपका wifi लग गया अब उठकर खाना बना देंगी प्लीज बिट्टू की बात से खुश होकर मंजू कमरे में अपना फ़ोन ले कर लूडो खेलने में लग जाती है।

 और आवाज लगा कर सास को बोलती है मम्मी जी ज़रा इन्हे खाना दे दीजिये प्ल्ज़ बिट्टू मंजू को देखते हुए बाहर चला जाता है। मंजू अपने लूडो गेम में मगन हो जाती है। दिन  साम  बित जाती है लेकिन मंजू ज़ि अपने कमरे से बाहर ही नहीं निकलती

 सास: ऐसा कौनसा बिज़नेस चल रहा है महारानी का जो सुबह से एक बार भी कमरे से बाहर नहीं झांकी मंजू की सास उसके कमरे में जाती है तो देखती है की मंजू वहाँ बैठी मोबाइल में लूडो का गेम खेल रही है।

 सास: अरे सत्या नास हो रे तब से तू काम बोलकर इस फ़ोन में लगी पारी है। मंजू: मम्मी जी मुझे डिसट्रब मत कीजिए मुझे भूक लगी है कुछ खाने को दिज्ये और रात का खाना भी आप ही देख लेना बाई।

 सास: हाय राम बस बुढ़ापे में यही दिन देखना रह गया था की जिस बहु को घर में अपनी सेवा के लिए लेकर आये अब वो भी हमपर हुकुम चलाकर हमसे ही काम कराएगी। मंजू की सास कमरे से बाहर चली जाती है और घर का सारा काम करने लगती है।

 इसी तरह दिन बीतते है और इसी के साथ मंजू की लोदु गेम की लत और हुकुम भी बढ़ते जाते है।

 सास: गेम न हुआ की मेरी जान का दुसमन हो गया।
 बिट्टू: ये सब wifi लगाने के बाद ही सुरु हुआ है। हद ही हो गयी अभी इसे बंद कर हूँ।
 बहु: क्या-क्या बोले देखो ज़ि कह देती हूँ। wifi बंद हुआ न तो तुम्हारे लिए मुझसे बुरा कोई नहीं होगा
 बिट्टू: वैसे भी कोई है भी नहीं मंजू एक बार फिर गेम में मगन हो जाती है 

जिसे देखने बिट्टू अपनी मम्मी के कान में कुछ फुस-फुसता है और वो दोनों भी बिना काम किये पूरा दिन फ़ोन इस्तेमाल करने लगते है जिस वजह से पूरा भूखे रहने के बाद मंजू का ध्यान अपने पति और सास पर जाता है।

 मंजू: आप दोनों फ़ोन में लगे क्या कर रहे है। घर का काम कौन करेगा मुझे भूख लगी है खाना देदो मैं लूडो जितने वाली हूँ अभी यहाँ से हिल भी नहीं सकती मैं

 सास : हमने तो खा लिया तुम्हे खाना हो तो बना लेना फिर साथ में एक गेम खेलेंगे
 बिट्टू : तब तक डोंट डिस्टर्ब हमलोगो का भी गेम चल रहा है। बहु: अरे मुझे किसी  के साथ कोई गेम नहीं खेलना। कहकर मंजू वहाँ से चली जाती है अब ये सब हर रोज होने लगता है जिससे कुछ ही दिनों में मंजू परेशान होने लगती यही है

 अपने सास और पति का व्यवहार देख कर उसका गेम खेलना काम हो जाता है। मंजू बिट्टू से कहती है आप और मम्मी जी दिन भर गेम खेलते रहते है। आपको ऑफिस नहीं जाना होता है क्या ?

 बिट्टू: मैंने तो नौकरी छोर दी अब घर में कोई कुछ काम नहीं करेगा सब साथ में गेम खेलेंगे तुम भी तो यही करती हो फिर दिक्कत क्या है चलो सब खेलते है। बिट्टू की बात सुनकर मंजू को अपनी गलती समझ आ जाती है ,

 मंजू : सॉरी जी मुझे समझ आज्ञा मई क्या कर रही थी गेम तो सिर्फ एंटरटेनमेंट के लिए अच्छे है उनका एडिक्शन किसी के लिए भी अच्छा नहीं होता मैं अपनी गलती समझ गयी हूँ जी



Comments

Popular posts from this blog

3 भाइयो की hindi kahani

एक व्यक्ति के 3 बेटे थे ,तीनो में बहुत अंतर था ,3 नो अलग-अलग स्वभाव के थे बड़ा बेटा  बहोत मुर्ख और बतमीज़ था ,मझला थोड़ा समझदार था ,और सबसे छोटा बेटा  अति बुद्धिमान और संस्कारी था ,वो हमेसा अपने से बरो का आदर सत्कार करता है ,उस व्यक्ति को अपने सबसे बड़े बेटे की बहोत चिंता रहती थी ,किसी काम की वजह से उन्हें दूसरे गांव जाना था ,और वो गांव काफी दूर था ,इसी लिया उन्होंने अपने साथ खाना और कपड़ा ले लिया और यात्रा के लिए निकल परे, यात्रा के कुल 3 दिन होगये थे लेकिन वो अपनी मंजिल तक  नहीं पहुँच पाए थे ,वो लोग रास्ता भटक गए और खो गए उन्हें रास्ता याद नहीं आ रहा था ,उनके खाने का सामान खत्म हो गया था वो 2 दिनों से भूखे थे ,वो सभी एक पेड़ के निचे बैठ गये ,थोड़ी देर बाद उन्होंने एक घोड़े की आवाज़ सुनी  और देखा की वो एक व्यापारी था ये भी पढ़े  और उसके पास  बहोत साड़ा खाने का सामान एक गांव से दूसरे गांव वो बेचने जा रहा है था उस व्यक्ति ने अपने सबसे बड़े बेटे से बोला  की जाओ और उस व्यापारी से कुछ खाने को मांगो बड़ा बेटा  वहा जाता  और व्यापारी से बोलता है , बड़ा बेटा : अरे ओ व्यापारी तू इतना माल ले जा

4 story in hindi language with morals

ईमानदारी का इनाम  1.  एक गाँव में एक पेंटर रहता था ,वो बहोत ईमानदार था और कभी किसी से बेमानी नहीं करता था। वो दिन रात मेहनत करता था ,फिर भी उसे 2 वक़्त की रोटी ही मिल पाती थी ,वो हमेसा सोचता की कभी उसे कोई बड़ा काम मिले और वो अच्छे से पैसे कमा सके , एक दिन उसके पेंट की अदाकारी के बारे में जमींदार साहब को पता चला जमींदार साहब ने उसे बुलाया और कहाँ तुम्हें मेरी नाव पेंट करनी है , पेंटर: जी ठीक है हो जाएगा  ज़मीनदार: अच्छा ये तो बताओ कितना लोगो , पेंटर: साहब ऐसे तो नाव पेंट के 1500 होते है। आपको जो मन हो वो देदे, ज़मीनदार: ठीक है चलो नाव देख लो  पेंटर: चलिए  पेंटर नाव देख लेता है ,और बोलता है जमींदार साहब मैं अभी पेंट लेके आता हूँ , पेंटर पेंट लेके आता है ,और पेंट करना सुरु कर देता है। जब वो पेंट करते-करते नाव के बिच में आता है तो देखता है ,की उसमे एक सुराख़  है ,वो उस को भर देता है और पेंट पूरा होने के बाद जमींदार को बुला कर ले आता है ,जमींदार उसके काम से बहोत खुश होता है , और बोलता है कल अपने 1500 ले लेना ,वो उस सुराख़ के विषय में जमींदार को नहीं बताता है और वो वहाँ से चला