Skip to main content

मुर्ख ब्राह्मण ki purani hindi kahaniya

मुर्ख ब्राह्मण ki purani hindi kahaniya with moral



एक गांव में अभिषेक नाम का एक गरीब ब्राह्मण रहता था। अभिषेक माँ दुर्गा का बहुत बड़ा भक्त था। एक बार उसने अपने गुरु अनुसार माँ दुर्गा की तपस्या करने का निर्णय लिया वो एक घने जंगल में चला गया और एक बड़े से पेड़ के निचे एक पैर पर खरे होके तपस्या करने लगा 

बहुत दिन बीत गए उसकी भगति देख माँ दुर्गा उससे खुश हो गयी और उसके सामने प्रकट हुई और बोलती है वत्स आँखे खोलो मैं तुमपे प्रशन्न हुई हूँ। बोलो तुम्हे क्या चाहिए अभिषेक बोलता है माते आपके दर्शन से ही धन्य हुआ और क्या मांगू। 

माँ दुर्गा बोलती है मैं तुम्हे एक वरदान दे रही हूँ जो चाहिए वो मांग लो अभिषेक बोलता है माते मुझे संजीवनी बूटी का वरदान दो मुझे संजीवनी बूटी देदो अभिषेक को संजीवनी बूटी देते हुए माँ दुर्गा ने कहा वत्स ये बूटी लो इस बूटी का इस्तेमाल तुम जिस भी व्यक्ति पर करगे वो फिर से जीवित हो जाएगा। 

जिस भी व्यक्ति पर तुम इसका रस डालोगे वो फिर जीवितहो जाएगा और पहले जैसा ताकत वर नहीं हो जाएगा , ये संजीवनी न कभी सूखेगी और न ही कभी ख़तम होगी इतना कहते ही माँ दुर्गा चली गयी ,संजीवनी पाकर अभिषेक आनंदित हो उठा और अपने गांव की ओर निकल परा। 

रास्ते में वो सोचने लगा इस संजीवनी से मैं मृत्यु पर विजय प्राप्त कर सकूंगा और अब इसके बाद किसी भी घर में दुःख नहीं होगा गांव के सभी लोग मेरी प्रशंसा करेंगे और हो सकता है। सबलोग मुझे गांव का सरपंच ही बना दे चलते-चलते उसके मन में एक अलग ही विचार आया क्या कही माँ दुर्गा ने मेरे साथ कोई मज़ाक तो नहीं किया 

ये कोई साधारण पत्ते तो नहीं या सच में संजीवनी बूटी है की नहीं ये जानने के लिए मुझे कुछ न कुछ तो करना ही पड़ेगा , अभिषेक इधर-उधर देखने लगा इतने में उसे एक मृत शेर दिखा अभिषेक उस मृत शेर के पास गया और सोचने लगा क्यों न इस संजीवनी का इस्तेमाल इस शेर पर किया जाए। 

 फिर पता चलेगा ये असली है या नकली , अभिषेक ने उस संजीवनी बूटी को हाथो से मसलना सुरु किया उसने बिना कुछ सोचे-समझे उस रस को मृत शेर के ऊपर रख दिया और शेर फिरसे जीवित हो गया। अभिषेक तो बहुत खुश हुआ और बोला अरे वाह ये तो सच में संजीवनी बूटी है। वो शेर बहुत बूढ़ा था शिकार न मिलने के कारन 

भूक से मर गया था संजीवनी के कारन वो न केवल जीवित हुआ बल्कि पहले से ज़्यादा शक्तिशाली  भी हो  गया जीवित होते ही उस शेर ने जोर से दहाड़ मारी अभिषेक बहुत डर गया और बोला हे भगवान मैंने ये क्या किया शेर को जीवित कर दिया अब मेरी खैर नहीं सामने भूखा शेर देख कर अभिषेक की हालत ख़राब हो गयी वो डर कर इधर-उधर भागने लगा 

लेकिन शेर के ताकत सामने वो टिक न सका शेर ने उसे पकड़ा और खा गया। 

Moral of the story: इसी लिए कोई भी काम करने से पहले उसके परिणामो के बारे में सोचना आवश्यक है। 

Comments

Popular posts from this blog

लूडो वाली बहुँ की हिंदी कहानियां

लूडो वाली बहुँ  Hindi kahaniya  लूडो वाली बहुँ : विदाई के वक़्त मंजू की मम्मी मंजू से कहती है देख रे मंजू दूसरे शहर के लोग है इन्हे तेरी मोबाइल के एडिक्शन नहीं पता और रिस्ता हो गया वहाँ कोई नाटक मत करना नहीं तो मुझसे बुरा कोई नहीं होगा। मंजू अपने ससुराल पहुंच जाती हैं।  जहाँ उसे उसकी सास कहती है ,अब सास को आराम देकर  तुहि मेरे बेटे और इस घर का ख्याल  रखेगी अभी तो कोई काम है नहीं इसी लिए कल से सारि ज़िमेदारी सम्भाल लेना बेटा ,मंजू अपने कमरे में आराम करती है और अगली सुबह ससुराल में सारा काम संभाल लेती है  लेकिन काम करते हुए गुस्से में बर-बाराती भी रहती है (सारा घर सम्भाल लेना बहु लेकर आई है या नौकरानी एक तो घर न जाने कौन से कोने में है जहाँ इंटरनेट का एक सिग्नल तक नहीं आता और बात तो ऐसे करती है जैसे न जने कौन से ख़जाने की मालकिन हो )  सास: पहले ही दिन क्या हो गया बहु जो घर में कैलिसि फैला रही हो  बहुँ: अभी तक कुछ किया नहीं मम्मी जी बस अपनी किस्मत पर रो रही हूँ। मायके में पूरा समय wifi से लूडो खेलती थी यहाँ तो नोटिफिकेशन देखने लायक़ इंटरनेट नहीं चलता। लूडो क्या  घंटा

3 भाइयो की hindi kahani

एक व्यक्ति के 3 बेटे थे ,तीनो में बहुत अंतर था ,3 नो अलग-अलग स्वभाव के थे बड़ा बेटा  बहोत मुर्ख और बतमीज़ था ,मझला थोड़ा समझदार था ,और सबसे छोटा बेटा  अति बुद्धिमान और संस्कारी था ,वो हमेसा अपने से बरो का आदर सत्कार करता है ,उस व्यक्ति को अपने सबसे बड़े बेटे की बहोत चिंता रहती थी ,किसी काम की वजह से उन्हें दूसरे गांव जाना था ,और वो गांव काफी दूर था ,इसी लिया उन्होंने अपने साथ खाना और कपड़ा ले लिया और यात्रा के लिए निकल परे, यात्रा के कुल 3 दिन होगये थे लेकिन वो अपनी मंजिल तक  नहीं पहुँच पाए थे ,वो लोग रास्ता भटक गए और खो गए उन्हें रास्ता याद नहीं आ रहा था ,उनके खाने का सामान खत्म हो गया था वो 2 दिनों से भूखे थे ,वो सभी एक पेड़ के निचे बैठ गये ,थोड़ी देर बाद उन्होंने एक घोड़े की आवाज़ सुनी  और देखा की वो एक व्यापारी था ये भी पढ़े  और उसके पास  बहोत साड़ा खाने का सामान एक गांव से दूसरे गांव वो बेचने जा रहा है था उस व्यक्ति ने अपने सबसे बड़े बेटे से बोला  की जाओ और उस व्यापारी से कुछ खाने को मांगो बड़ा बेटा  वहा जाता  और व्यापारी से बोलता है , बड़ा बेटा : अरे ओ व्यापारी तू इतना माल ले जा

4 story in hindi language with morals

ईमानदारी का इनाम  1.  एक गाँव में एक पेंटर रहता था ,वो बहोत ईमानदार था और कभी किसी से बेमानी नहीं करता था। वो दिन रात मेहनत करता था ,फिर भी उसे 2 वक़्त की रोटी ही मिल पाती थी ,वो हमेसा सोचता की कभी उसे कोई बड़ा काम मिले और वो अच्छे से पैसे कमा सके , एक दिन उसके पेंट की अदाकारी के बारे में जमींदार साहब को पता चला जमींदार साहब ने उसे बुलाया और कहाँ तुम्हें मेरी नाव पेंट करनी है , पेंटर: जी ठीक है हो जाएगा  ज़मीनदार: अच्छा ये तो बताओ कितना लोगो , पेंटर: साहब ऐसे तो नाव पेंट के 1500 होते है। आपको जो मन हो वो देदे, ज़मीनदार: ठीक है चलो नाव देख लो  पेंटर: चलिए  पेंटर नाव देख लेता है ,और बोलता है जमींदार साहब मैं अभी पेंट लेके आता हूँ , पेंटर पेंट लेके आता है ,और पेंट करना सुरु कर देता है। जब वो पेंट करते-करते नाव के बिच में आता है तो देखता है ,की उसमे एक सुराख़  है ,वो उस को भर देता है और पेंट पूरा होने के बाद जमींदार को बुला कर ले आता है ,जमींदार उसके काम से बहोत खुश होता है , और बोलता है कल अपने 1500 ले लेना ,वो उस सुराख़ के विषय में जमींदार को नहीं बताता है और वो वहाँ से चला