Skip to main content

बड़ी सिख -Purani hindi kahani with moral

बड़ी सिख -Purani hindi kahani with moral

bari sikh hindi kahaniya for kids

बहोत पुरानी बात है एक  आश्रम था जिसमे बहुत सारे बच्चे दूर-दूर से शिक्षा ग्रहण करने आते थे उन्ही में से थे मोहन और कमल उन दोनों  शिक्षा पूरी हो चुकी थी ,आश्रम के नियम के अनुसार उन्हें अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद घर जाना था। लेकिन जब मोहन और कमल घर जाने लगे तो गुरु जी ने उन्हें अपने पास बुलाया और कहा बच्चो आज तुम अपनी शिक्षा पूर्ण करके अपने-अपने घर जा रहे हो। 


लेकिन तुम्हे घर जाने से पहले एक और परीक्षा देनी होंगी इस परीक्षा  अगर तुम सफल हुए तो तुम्हे घर जाने दिया जाएगा लेकिन अगर तुम विफ़ल हुए तो तुम्हे यही रुकना पड़ेगा ,तभी मोहन गुरु जी से पूछता है। गुरु जी आप  परीक्षा के बाड़े में बात कर रहे है ,हमने तो अपनी शिक्षा पूरी कर्ली है और आज तो हमें घर भी जाना है फिर आप कौन सी परीक्षा की बात कर रहे है। 

गुरु जी हस्ते हुए बोलते है मेरा एक छोटा सा काम करोगे अगर तुम दोनों उसमे सफल हुए तो तुम अपने घर जा सकते हो, कमल बोलता है गुरु जी क्या काम है आप बताये हम आवस्य ही परीक्षा देंगे गुरु जी ने उन्दोनो को बड़े ही ध्यान से देखा फिर मुस्कुराये और कहा बच्चो तुम दोनों को मैं कबूतर देता हूँ और तुम्हे इसे मारना  है। 


तुम इन्हे ऐसे जगह मारना जहा तुम्हे कोई देख न रहा हो मोहन और कमल दोनों ही उन कबूतरों को लेकर चले जाते है मोहन  अपने कबूतर को लेकर एक सुनसान गुफ़ा में जाता है और वहाँ जाकर देखा है ,और बोलता है अरे इस  गुफा में तो  नहीं है मैं अगर इसे मार भी दू तो किसी  क्या पता चलेगा  कहकर वो गुफा में कबूतर की गर्दन मोर कर उसे मार देता है और फ़ौरन गुरु ज़ि  के पास आश्रम में जाता है। 


और कहता मैंने उस कबूतर को मर दिया है अब तो मैं घर जा सकता हूँ  इस परीक्षा सफ़ल हो गया हूँ।  गुरु जी उस मरे हुए कबूतर  हाथ में लेकर थोड़े परेशान हो जाते है और मोहन को कहते है देखो मोहन मैंने तुम्हे और कमल  दोनों को ये काम दिया था लेकिन मुझे अभी भी लगता है तुम इस परीक्षा के परिणाम के लिए कमल के आने का इंतज़ार करो मैं तभी अपना फैसला सुना पयूंगा। 


साम हो गयी थी अँधेरा भी घिर गया था लेकिन कमल अभी तक नहीं आया और गुरु जी को चिंता होने लगी थी तभी उन्हें दूर से कमल आता हुआ दिखाई देता है ,गुरु जी बोलते है देखो वो आ रहा है उसके आने के बाद तुम दोनों के परीक्षा के परिणाम की घोसणा हो जायेगी , कमल बोलता है प्रणाम गुरु जी। 

गुरु जी बोलते है कमल तुम इतनी देर से कैसे आये और तुम्हारे हाथ में  ये 
कबूतर ज़िंदा कैसे है , कमल बोलता है ,गुरु  ये बहुत लम्बी कहानी है आप बस ये समझ लीजये मैं इस परीक्षा में सफ़ल नहीं हुआ हूँ मुझे छमा करे मैं इस कबूतर को नहीं मार पाउँगा और इस कारन मैं अपने घर भी  नहीं जा सकता ,ये सुनकर गुरु जी उससे कहते है रुको कमल तुम  तक हमें पूरी बात नहीं बताओगे हम तुम्हे आश्रम में प्रवेश नहीं करने देंगे ,

बताओ क्या हुआ था तुम्हारे साथ , कमल बोलता है गुरु जी की आपने कहा था इस कबूतर को वही ले जा कर मारना है जहा पर  नहीं देख रहा होगा और मैंने वही किया मैं इसे मार ने के लिए जंगल में ले गया लेकिन वहाँ पर मौजूद सारे जानवर मुझे देख रहे थे फिर मैं इसे जंगल के अंदर ले गया वहाँ पर जानवर  मौजूद नहीं थे लेकिन सारे पेड़ पौधे देख रहे थे। 

इसके बाद मैं इसे समुन्द्र ले गया तो वहा पर सारि मछलियाँ और समुन्द्र देख रहा था , जब मैं इसे मारने पहाड़ पर ले गया तब वहा पर सन्नाटा देख रहा था इसके बाद मैं एक गुफ़ा के अंदर ले गया वहां पर मुझे अँधेरा देख रहा था और इनसे सबसे बड़ी बात मैं इसे मारते हुए खुद देख रहा था गुरु जी  सुनकर मुस्कुराये और उससे कहाँ कमल तुमने तो सबसे बड़ी शिक्षा ग्रहण  हैं। 

जो मैं तुम्हे समझाना चाहता था वो तुम समझ गए ,तुमने इस कबूतर को इस लिए नहीं मारा की तुम्हे सब लोग देख रहे थे एकांत में  हमारा भय है जो हमें गलत काम करने से रोकता है अगर हम सब कुछ भी गलत करने से पहले ये सोच ले की हमें कोई न कोई देख रहा है तो हम गलत काम नहीं करेंगे बस यही मैं तुम्हे समझाना चाहता था और तुम बहुत अच्छे से समझ गए उसके बाद गुरु  ने उस कबूतर को भी अपनी शक्तियो से जीवित कर दिया, गुरु जी  सुनकर मोहन को अंदाज़ा हो गया की उसे अभी और शिक्षा ग्रहण करनी है इस लिए वो चुप-चाप आश्रम चला गया, वही कमल वापस अपने घर चला गया 


Moral of story:हमें कुछ भी बुरा करने से पहले दस बार सोचना चाहिए। 

Comments

Popular posts from this blog

3 भाइयो की hindi kahani

एक व्यक्ति के 3 बेटे थे ,तीनो में बहुत अंतर था ,3 नो अलग-अलग स्वभाव के थे बड़ा बेटा  बहोत मुर्ख और बतमीज़ था ,मझला थोड़ा समझदार था ,और सबसे छोटा बेटा  अति बुद्धिमान और संस्कारी था ,वो हमेसा अपने से बरो का आदर सत्कार करता है ,उस व्यक्ति को अपने सबसे बड़े बेटे की बहोत चिंता रहती थी ,किसी काम की वजह से उन्हें दूसरे गांव जाना था ,और वो गांव काफी दूर था ,इसी लिया उन्होंने अपने साथ खाना और कपड़ा ले लिया और यात्रा के लिए निकल परे, यात्रा के कुल 3 दिन होगये थे लेकिन वो अपनी मंजिल तक  नहीं पहुँच पाए थे ,वो लोग रास्ता भटक गए और खो गए उन्हें रास्ता याद नहीं आ रहा था ,उनके खाने का सामान खत्म हो गया था वो 2 दिनों से भूखे थे ,वो सभी एक पेड़ के निचे बैठ गये ,थोड़ी देर बाद उन्होंने एक घोड़े की आवाज़ सुनी  और देखा की वो एक व्यापारी था ये भी पढ़े  और उसके पास  बहोत साड़ा खाने का सामान एक गांव से दूसरे गांव वो बेचने जा रहा है था उस व्यक्ति ने अपने सबसे बड़े बेटे से बोला  की जाओ और उस व्यापारी से कुछ खाने को मांगो बड़ा बेटा  वहा जाता  और व्यापारी से बोलता है , बड़ा बेटा : अरे ओ व्यापारी तू इतना माल ले जा

लूडो वाली बहुँ की हिंदी कहानियां

लूडो वाली बहुँ  Hindi kahaniya  लूडो वाली बहुँ : विदाई के वक़्त मंजू की मम्मी मंजू से कहती है देख रे मंजू दूसरे शहर के लोग है इन्हे तेरी मोबाइल के एडिक्शन नहीं पता और रिस्ता हो गया वहाँ कोई नाटक मत करना नहीं तो मुझसे बुरा कोई नहीं होगा। मंजू अपने ससुराल पहुंच जाती हैं।  जहाँ उसे उसकी सास कहती है ,अब सास को आराम देकर  तुहि मेरे बेटे और इस घर का ख्याल  रखेगी अभी तो कोई काम है नहीं इसी लिए कल से सारि ज़िमेदारी सम्भाल लेना बेटा ,मंजू अपने कमरे में आराम करती है और अगली सुबह ससुराल में सारा काम संभाल लेती है  लेकिन काम करते हुए गुस्से में बर-बाराती भी रहती है (सारा घर सम्भाल लेना बहु लेकर आई है या नौकरानी एक तो घर न जाने कौन से कोने में है जहाँ इंटरनेट का एक सिग्नल तक नहीं आता और बात तो ऐसे करती है जैसे न जने कौन से ख़जाने की मालकिन हो )  सास: पहले ही दिन क्या हो गया बहु जो घर में कैलिसि फैला रही हो  बहुँ: अभी तक कुछ किया नहीं मम्मी जी बस अपनी किस्मत पर रो रही हूँ। मायके में पूरा समय wifi से लूडो खेलती थी यहाँ तो नोटिफिकेशन देखने लायक़ इंटरनेट नहीं चलता। लूडो क्या  घंटा

4 story in hindi language with morals

ईमानदारी का इनाम  1.  एक गाँव में एक पेंटर रहता था ,वो बहोत ईमानदार था और कभी किसी से बेमानी नहीं करता था। वो दिन रात मेहनत करता था ,फिर भी उसे 2 वक़्त की रोटी ही मिल पाती थी ,वो हमेसा सोचता की कभी उसे कोई बड़ा काम मिले और वो अच्छे से पैसे कमा सके , एक दिन उसके पेंट की अदाकारी के बारे में जमींदार साहब को पता चला जमींदार साहब ने उसे बुलाया और कहाँ तुम्हें मेरी नाव पेंट करनी है , पेंटर: जी ठीक है हो जाएगा  ज़मीनदार: अच्छा ये तो बताओ कितना लोगो , पेंटर: साहब ऐसे तो नाव पेंट के 1500 होते है। आपको जो मन हो वो देदे, ज़मीनदार: ठीक है चलो नाव देख लो  पेंटर: चलिए  पेंटर नाव देख लेता है ,और बोलता है जमींदार साहब मैं अभी पेंट लेके आता हूँ , पेंटर पेंट लेके आता है ,और पेंट करना सुरु कर देता है। जब वो पेंट करते-करते नाव के बिच में आता है तो देखता है ,की उसमे एक सुराख़  है ,वो उस को भर देता है और पेंट पूरा होने के बाद जमींदार को बुला कर ले आता है ,जमींदार उसके काम से बहोत खुश होता है , और बोलता है कल अपने 1500 ले लेना ,वो उस सुराख़ के विषय में जमींदार को नहीं बताता है और वो वहाँ से चला