Skip to main content

Academy of technology(AOT),placement,Exams,Admission

Academy of technology(AOT),placement,Exams,Admission

Academy of technology(AOT),placement,Exams,Admission



आज की review होने वाली है Academy of technology (AOT) के बारे में ,इस पोस्ट को ध्यान से पढ़े आप के सारे doubt इस कॉलेज से related क्लियर होने वाली है ,इस पोस्ट के अंदर , तो चलये जानते है।   Academy of technology  के बारे में ,

अगर हम इस इंस्टिट्यूट की बात करे तो ये west bengal में located है ये लग-भग stablish हुआ था 2003 में एक चैरिटी है जिसने Acadmey of technology को फाउंड किया था जिसका नाम है Ananda Educational Develpoment And Charitable Organisation(AEDCO). इनके through Acadmey of technology स्टैब्लिश किया गया था।
Acadmey of technology  recognised भी किया गया है AICTE के द्वारा और affiliation भी मिला हुआ है West bengal institute of  technology से जिसको हमलोग MAULANA ABUL KALAM AZAD UNVERSITY OF TECHNOLOGY के नाम से भी जानते है। 


Campus-Acadmey of technology 


अगर मैं इसके Campus  की बात करू तो ये लग-भग 10.66 Acres में फैला हुआ है ,तो जो स्टूडेंट के लिए जो required फैसिलिटीज रहती है वो लग-भग फैसिलिटी जो हर कॉलेज देता है यहाँ भी मिलेगी फिर चाहे वो लाइब्रेरी हो या Auditourium,ट्रांसपोर्टेशन की फैसिलिटीज हो या Gym हो सभी चीज़े यहाँ पर अवेलेबल है। 

Acadmey of technology  सिर्फ studies  ही नहीं बल्कि other एक्टिविटीज भी करवाता है अगर आप चाहते हो की सिर्फ study में ये नहीं बल्कि other एक्टिविटीज में level maintain करके रखे तो Acadmey of technology आपको सारि फैसिलिटीज provide करेगा ,साथ ही रेगुलर बेसिस पे यहाँ पे सेमिनार भी conduct होते है अच्छे-अच्छे motivational Speakers आते है और आपलोगो को गाइड करते है। 


Events-Acadmey of technology 

यहाँ  annual बेसिस पे बहुत सारे event भी होते रहते है जैसे इनका एक event है Techfiesta ये एक स्टेट level का फीस्ट होता है  दिन का event होता है और उसमे बहुत सी इनोवेटिव चीज़े होती है जैसे camera art ,coding  ऐसे ही बहुत से mind गेम्स वगेरा होते रहते है। जिसमे स्टूडेंट पार्टिसिपेट करता है और अपने टैलेंट को show करता है। 


Courses-Acadmey of technology 

 अगर हम कोर्सेज की बात करे तो अगर आप b.tech के लिए जाते है तो यहां  पर 6 अलग-अलग कोर्सेज होते है PG में भी 5 कोर्सेज अवेलेबल है लेकिन इसकी सीट्स बहुत लिमिटेड रहती है  


B.tech-Acadmey of technology 

  • Electronics & communication Engineering(ECE)-120 seats
  • Applied electronics & Instrumentation Engineering(AEIE)-60 
  • Electrical Engineering(EE)-120 seats
  • Mechanical Engineering(ME)-120 seats
  • Compuer Science & Engineeing(CSE)-120 seats
  • Information Technology(IT)-60 seats
  • Master in Computer Application (M.C.A)


Admission-Academy of technology

यहाँ पे B.tech करने  लिए इंटेर में आपको 45%-50%  चिहिए और इसमें jee के भी स्कोर देखें जाते है अगर अपने WBJEE दिया है तो उसके भी marks देखे जाते है और साथ ही 10% सीट मैनेजमेंट quota के लिए रेसव है। 


Placement-Academy of Technology 

अब आती  है इंट्रेस्ट की बात यहाँ पे ऐसा कहा जाता है की 70%-80% स्टूडेंट को ही प्लेसमेंट मिलता है जिसका average पैकेज जाता है 3-4 लाख तक ही आप लोग ऐसा बोल सकते हो की placement यहाँ की average है ,

यहाँ पे फ़ूड क्वालिटी उतनी अछि नहीं होती है यहां के जो स्टूडेंट है उन्हें शिकायत रहती है की उसमे इम्प्रूव करे कॉलेज उसपे भी काम कर रही इन फ्यूचर इसमें improvent हो सकती है। 

कॉलेज का environment अच्छा है स्टूडेंट्स को कम्पीटशन मिलती है फैकल्टी यहाँ  ही हेल्पफुल है अच्छे है knowledgable है अगर हम इस कॉलेज को Rating दे तो हम 6-7 दे सकते है 10 में , 

MS Ramaiah institute of technology 

Comments

Popular posts from this blog

3 भाइयो की hindi kahani

एक व्यक्ति के 3 बेटे थे ,तीनो में बहुत अंतर था ,3 नो अलग-अलग स्वभाव के थे बड़ा बेटा  बहोत मुर्ख और बतमीज़ था ,मझला थोड़ा समझदार था ,और सबसे छोटा बेटा  अति बुद्धिमान और संस्कारी था ,वो हमेसा अपने से बरो का आदर सत्कार करता है ,उस व्यक्ति को अपने सबसे बड़े बेटे की बहोत चिंता रहती थी ,किसी काम की वजह से उन्हें दूसरे गांव जाना था ,और वो गांव काफी दूर था ,इसी लिया उन्होंने अपने साथ खाना और कपड़ा ले लिया और यात्रा के लिए निकल परे, यात्रा के कुल 3 दिन होगये थे लेकिन वो अपनी मंजिल तक  नहीं पहुँच पाए थे ,वो लोग रास्ता भटक गए और खो गए उन्हें रास्ता याद नहीं आ रहा था ,उनके खाने का सामान खत्म हो गया था वो 2 दिनों से भूखे थे ,वो सभी एक पेड़ के निचे बैठ गये ,थोड़ी देर बाद उन्होंने एक घोड़े की आवाज़ सुनी  और देखा की वो एक व्यापारी था ये भी पढ़े  और उसके पास  बहोत साड़ा खाने का सामान एक गांव से दूसरे गांव वो बेचने जा रहा है था उस व्यक्ति ने अपने सबसे बड़े बेटे से बोला  की जाओ और उस व्यापारी से कुछ खाने को मांगो बड़ा बेटा  वहा जाता  और व्यापारी से बोलता है , बड़ा बेटा : अरे ओ व्यापारी तू इतना माल ले जा

लूडो वाली बहुँ की हिंदी कहानियां

लूडो वाली बहुँ  Hindi kahaniya  लूडो वाली बहुँ : विदाई के वक़्त मंजू की मम्मी मंजू से कहती है देख रे मंजू दूसरे शहर के लोग है इन्हे तेरी मोबाइल के एडिक्शन नहीं पता और रिस्ता हो गया वहाँ कोई नाटक मत करना नहीं तो मुझसे बुरा कोई नहीं होगा। मंजू अपने ससुराल पहुंच जाती हैं।  जहाँ उसे उसकी सास कहती है ,अब सास को आराम देकर  तुहि मेरे बेटे और इस घर का ख्याल  रखेगी अभी तो कोई काम है नहीं इसी लिए कल से सारि ज़िमेदारी सम्भाल लेना बेटा ,मंजू अपने कमरे में आराम करती है और अगली सुबह ससुराल में सारा काम संभाल लेती है  लेकिन काम करते हुए गुस्से में बर-बाराती भी रहती है (सारा घर सम्भाल लेना बहु लेकर आई है या नौकरानी एक तो घर न जाने कौन से कोने में है जहाँ इंटरनेट का एक सिग्नल तक नहीं आता और बात तो ऐसे करती है जैसे न जने कौन से ख़जाने की मालकिन हो )  सास: पहले ही दिन क्या हो गया बहु जो घर में कैलिसि फैला रही हो  बहुँ: अभी तक कुछ किया नहीं मम्मी जी बस अपनी किस्मत पर रो रही हूँ। मायके में पूरा समय wifi से लूडो खेलती थी यहाँ तो नोटिफिकेशन देखने लायक़ इंटरनेट नहीं चलता। लूडो क्या  घंटा

4 story in hindi language with morals

ईमानदारी का इनाम  1.  एक गाँव में एक पेंटर रहता था ,वो बहोत ईमानदार था और कभी किसी से बेमानी नहीं करता था। वो दिन रात मेहनत करता था ,फिर भी उसे 2 वक़्त की रोटी ही मिल पाती थी ,वो हमेसा सोचता की कभी उसे कोई बड़ा काम मिले और वो अच्छे से पैसे कमा सके , एक दिन उसके पेंट की अदाकारी के बारे में जमींदार साहब को पता चला जमींदार साहब ने उसे बुलाया और कहाँ तुम्हें मेरी नाव पेंट करनी है , पेंटर: जी ठीक है हो जाएगा  ज़मीनदार: अच्छा ये तो बताओ कितना लोगो , पेंटर: साहब ऐसे तो नाव पेंट के 1500 होते है। आपको जो मन हो वो देदे, ज़मीनदार: ठीक है चलो नाव देख लो  पेंटर: चलिए  पेंटर नाव देख लेता है ,और बोलता है जमींदार साहब मैं अभी पेंट लेके आता हूँ , पेंटर पेंट लेके आता है ,और पेंट करना सुरु कर देता है। जब वो पेंट करते-करते नाव के बिच में आता है तो देखता है ,की उसमे एक सुराख़  है ,वो उस को भर देता है और पेंट पूरा होने के बाद जमींदार को बुला कर ले आता है ,जमींदार उसके काम से बहोत खुश होता है , और बोलता है कल अपने 1500 ले लेना ,वो उस सुराख़ के विषय में जमींदार को नहीं बताता है और वो वहाँ से चला