Skip to main content

kumkum bhagya funny episode|kumkum bhagya

kumkum  bhagya zeetv का एक serial है जो की 14 अप्रैल 2014 में zeetv पर start हुआ था ,serial kumkum  bhagya एक बहुत ही पॉपुलर serial है और लोग इसकी प्रशंसा भी खूब करते है। इस serial की creator है ekta kapoor . serial kumkum bhagya के एक्टर है abhi जो की  सिंगर है  और actress है प्रज्ञा जो एक टीचर है। 

Kumkum bhagya



kumkum bhagya short intro 

प्रज्ञा की एक बहन है बुलबुल और  उनकी  माँ  का नाम है सरला जो की एक बहुत सीधी लेडी है उनके पास  मैरिज हॉल भी होता है , सुरु-सुरु में प्रज्ञा अपने साथ पढ़ाने वाले मास्टर के प्यार में पर जाती है और आपलोग मुझसे ज़्यादा ही जानते है मैंने भी kumkum bhagya देखा है और उसके कुछ funny scenes के बारे में बताऊंगा ,

अब बात करते है abhi the Rock Star की ,अभी को सबसे ज़्यादा प्यारी उसकी दादी रहती है क्युकी उसके माँ बाप नहीं थे उसके बाद abhi  अपनी बहन आलिया  से प्यार करता है और आलिया  इस serial में विलन भी है। क्युकी ये abhi और प्रज्ञा बिच बार-बार आती है। अब बात करते है अगली विलन के बारे में जो है जो है तनु abhi की girl friend , ज़ाहिर सी बात है ये abhi और प्रज्ञा को मिलने नहीं देगी। 

बात आती है आलिया विलन क्यों बनी ,दरअसल बात ये है की आलिया का boy friend जो abhi का दोस्त भी है वो बुलबुल के प्यार में पर जाता है इस लिए आलिया विलन बन जाती है। 


Kumkum bhagya funny Scenes 

एक Scene तब की है जब pragya गलती से बालकनी के टेररिस्ट पर चढ़ जाती है और अभी उसे पागलो की तरह ढूढ़ने लगता है उसकी आवाज़ अगर आप इस एपिसोड में सुन लेंगे न तो हस्ते-हस्ते पागल हो जायेंगे, Abhi  और पूरव उसे ढूंढने लगते है। तभी पूरव की नज़र प्रज्ञा पर परती है और पूरव प्रज्ञा को आवाज़ लगाता है। 

फिर अभी उसे बुलाता है लेकिन abhi को नहीं देखती आसमान की तरफ़ देखती होती है ,तभी abhi कहता है अरे तुम्हे मैं बुला रहा हूँ god नहीं इस डायलाग को सुन्ने के बाद मुझे और भी ज़्यादा हसी आ रही थी ,प्रज्ञा बोलती है आपको दिखाई नहीं दे रहा मैं फस गयी हूँ यहाँ पर, Abhi  बोलता है। 

अच्छा क्या कर रही थी तुम किसी ने जाल बिछाया और फ़स गयी या किसी के फुग्गे के पीछे यहाँ आगयी अभी पूरव abhi को समझाता है और बोलता है देख नहीं रहा प्रज्ञा दी कितनी परेशान है उसकी हालत ख़राब है जा उन्हें बचाओ ,फिर abhi प्रज्ञा बुलाता है प्रज्ञा आने की कोसिस करती है लेकिन उसका पैर फिसल जाता है और वो गिरते-गिरते बचती है। प्रज्ञा डर के बोलती है नहीं मैं नहीं आउंगी मुझे डर लग रहा है 


abhi बोलता है तो क्या मैं तुम्हे बच्चाने आऊ प्रज्ञा बोलती है हाँ ,अगर आपलोग  abhi का फेस देख लेंगे आपके हस्ते-हस्ते पेट फूल जाएगा। बाद में पूरव के force करने पे abhi उसे बचाने की कोइसिस करता है और उसका पैर फिसल जाता है मैं आपको पूरी वीडियो के बारे में नहीं बताऊंगा आप खुद देख लीजये 

Comments

Popular posts from this blog

3 भाइयो की hindi kahani

एक व्यक्ति के 3 बेटे थे ,तीनो में बहुत अंतर था ,3 नो अलग-अलग स्वभाव के थे बड़ा बेटा  बहोत मुर्ख और बतमीज़ था ,मझला थोड़ा समझदार था ,और सबसे छोटा बेटा  अति बुद्धिमान और संस्कारी था ,वो हमेसा अपने से बरो का आदर सत्कार करता है ,उस व्यक्ति को अपने सबसे बड़े बेटे की बहोत चिंता रहती थी ,किसी काम की वजह से उन्हें दूसरे गांव जाना था ,और वो गांव काफी दूर था ,इसी लिया उन्होंने अपने साथ खाना और कपड़ा ले लिया और यात्रा के लिए निकल परे, यात्रा के कुल 3 दिन होगये थे लेकिन वो अपनी मंजिल तक  नहीं पहुँच पाए थे ,वो लोग रास्ता भटक गए और खो गए उन्हें रास्ता याद नहीं आ रहा था ,उनके खाने का सामान खत्म हो गया था वो 2 दिनों से भूखे थे ,वो सभी एक पेड़ के निचे बैठ गये ,थोड़ी देर बाद उन्होंने एक घोड़े की आवाज़ सुनी  और देखा की वो एक व्यापारी था ये भी पढ़े  और उसके पास  बहोत साड़ा खाने का सामान एक गांव से दूसरे गांव वो बेचने जा रहा है था उस व्यक्ति ने अपने सबसे बड़े बेटे से बोला  की जाओ और उस व्यापारी से कुछ खाने को मांगो बड़ा बेटा  वहा जाता  और व्यापारी से बोलता है , बड़ा बेटा : अरे ओ व्यापारी तू इतना माल ले जा

लूडो वाली बहुँ की हिंदी कहानियां

लूडो वाली बहुँ  Hindi kahaniya  लूडो वाली बहुँ : विदाई के वक़्त मंजू की मम्मी मंजू से कहती है देख रे मंजू दूसरे शहर के लोग है इन्हे तेरी मोबाइल के एडिक्शन नहीं पता और रिस्ता हो गया वहाँ कोई नाटक मत करना नहीं तो मुझसे बुरा कोई नहीं होगा। मंजू अपने ससुराल पहुंच जाती हैं।  जहाँ उसे उसकी सास कहती है ,अब सास को आराम देकर  तुहि मेरे बेटे और इस घर का ख्याल  रखेगी अभी तो कोई काम है नहीं इसी लिए कल से सारि ज़िमेदारी सम्भाल लेना बेटा ,मंजू अपने कमरे में आराम करती है और अगली सुबह ससुराल में सारा काम संभाल लेती है  लेकिन काम करते हुए गुस्से में बर-बाराती भी रहती है (सारा घर सम्भाल लेना बहु लेकर आई है या नौकरानी एक तो घर न जाने कौन से कोने में है जहाँ इंटरनेट का एक सिग्नल तक नहीं आता और बात तो ऐसे करती है जैसे न जने कौन से ख़जाने की मालकिन हो )  सास: पहले ही दिन क्या हो गया बहु जो घर में कैलिसि फैला रही हो  बहुँ: अभी तक कुछ किया नहीं मम्मी जी बस अपनी किस्मत पर रो रही हूँ। मायके में पूरा समय wifi से लूडो खेलती थी यहाँ तो नोटिफिकेशन देखने लायक़ इंटरनेट नहीं चलता। लूडो क्या  घंटा

4 story in hindi language with morals

ईमानदारी का इनाम  1.  एक गाँव में एक पेंटर रहता था ,वो बहोत ईमानदार था और कभी किसी से बेमानी नहीं करता था। वो दिन रात मेहनत करता था ,फिर भी उसे 2 वक़्त की रोटी ही मिल पाती थी ,वो हमेसा सोचता की कभी उसे कोई बड़ा काम मिले और वो अच्छे से पैसे कमा सके , एक दिन उसके पेंट की अदाकारी के बारे में जमींदार साहब को पता चला जमींदार साहब ने उसे बुलाया और कहाँ तुम्हें मेरी नाव पेंट करनी है , पेंटर: जी ठीक है हो जाएगा  ज़मीनदार: अच्छा ये तो बताओ कितना लोगो , पेंटर: साहब ऐसे तो नाव पेंट के 1500 होते है। आपको जो मन हो वो देदे, ज़मीनदार: ठीक है चलो नाव देख लो  पेंटर: चलिए  पेंटर नाव देख लेता है ,और बोलता है जमींदार साहब मैं अभी पेंट लेके आता हूँ , पेंटर पेंट लेके आता है ,और पेंट करना सुरु कर देता है। जब वो पेंट करते-करते नाव के बिच में आता है तो देखता है ,की उसमे एक सुराख़  है ,वो उस को भर देता है और पेंट पूरा होने के बाद जमींदार को बुला कर ले आता है ,जमींदार उसके काम से बहोत खुश होता है , और बोलता है कल अपने 1500 ले लेना ,वो उस सुराख़ के विषय में जमींदार को नहीं बताता है और वो वहाँ से चला